कोरोना वायरस (Coronavirus)

कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर दुनियाभर में फैला हुआ है। इन दिनों सभी अखबारों या समाचार चैनलों में कोरोना वायरस से जुड़ी आती ही रहती हैं।
हमारे पड़ोसी देश चीन और उसके सीमावर्ती देशों में कोरोना वायरस से काफी सारे लोगों को अपनी जान गवानी पड़ रही है।

ये आंकड़े वाकई काफी चौंकाने वाले हैं, जो इस बीमारी की भयावहता को बयां करने के लिए काफी हैं।

इसी कारण, लोगों में कोरोना वायरस को लेकर काफी डर फैला हुआ है,जिसकी वजह से वे इसके लक्षणों की पहचान नहीं करता है और न ही इससे निजात पा सकते हैं।
मगर, किसी भी व्यक्ति को इस बीमारी को लेकर डरने की जरूरत नहीं बल्कि उनके इस स्थिति में संयम बरतने की जरूरत है ताकि कोरोना वायरस (Coronavirus) का इलाज सही तरीके से किया जा सके।

इस प्रकार, यह हम सभी की ज़िम्मेदारी है कि लोगों को इस वायरस की अधिक-से-अधिक जानकारी दी जाए ताकि उनके मन में मौजूद इस बीमारी का डर कम हो सके।
हम लोग इस लेख के माध्यम से इसी ज़िम्मेदारी को निभा रहे हैं।

कोरोना वायरस (Coronavirus) से तात्पर्य ऐसे वायरस है, जो मनुष्य संबंधी अन्य जीवों श्वसन तंत्र (respiratory tract) को प्रभावित करता है।इसकी शुरूआत सामान्य जुखाम की तरह होती है, जो कुछ समय के बाद पूरे श्वसन तंत्र के कार्य करने की क्षमता को खराब कर देता है।आमतौर पर, कोरोना वायरस के लक्षण जुखाम की तरह लग सकते हैं, जिसकी वजह से लोग इसका इलाज नहीं करा पाते हैं।
कोरोना वायरस (Coronavirus) पर किए गए अध्ययनों से यह बात स्पष्ट हुई है कि कोरोना वायरस के लक्षण सामान्य जुखाम के लक्षणों से काफी अलग होते हैं।
इस प्रकार, यदि किसी शख्स को अपने शरीर में ये 5 लक्षण नज़र आते हैं, तो उसे इन्हें नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए क्योंकि ये कोरोना वायरस(Coronavirus) के संकेत हो सकते हैं-

नाक का बहना- कोरोना वायरस का प्रमुख लक्षण नाक का बहना है। हो सकता है कि कुछ लोग नाक बहने को जुखाम का लक्षण समझने की भूल करें, लेकिन उन्हें किसी भी नतीजे पर पहुंचने से पहले अपनी सेहत की जांच करा लेनी चाहिए क्योंकि नाक का बहना कोरोना वायरस का लक्षण भी हो सकता है।

गले में खराश होना- कोरोना वायरस का अन्य लक्षण गले में खराश होना भी है। यदि किसी व्यक्ति को अचानक से गले में खराश होती है, तो उसे तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए क्योंकि यह कोरोना वायरस होने का संकेत हो सकता है।

खांसी होना-अक्सर, कोरोना वायरस की शुरूआत खांसी से भी हो सकती है।
ऐसी स्थिति में लोगों को बिना डॉक्टर की सलाह के खांसी की दवाई नहीं लेनी चाहिए क्योंकि ऐसा करना उनके लिए नुकसानदायक साबित हो सकता है।

छींक आना- यदि किसी व्यक्ति काफी ज्यादा छींक आती है, जो किसी भी तरह की दवाई लेने से ठीक नहीं होती है, तो उसे इसकी सूचना डॉक्टर को देनी चाहिए क्योंकि लंबे समय तक छींक रहना कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है।

तेज़ बुखार होना-कोरोना वायरस होने की संभावना ऐसे लोगों को भी हो सकती है, जिन्हें कुछ समय से तेज़ बुखार हो।ऐसे लोगों को अपनी सेहत की अच्छी तरह से जांच करानी चाहिए क्योंकि तेज़ बुखार कोरोना वायरस (Coronavirus) का लक्षण हो सकता है।

हालांकि, कोरोना वायरस कुछ लोगों के लिए परेशानी का सबक बन जाता है,जिसकी वजह से उनकी सेहत दिन-प्रतिदिन खराब होती जाती है, लेकिन अगर लोगों को कोरोना वायरस (Coronavirus) की पूरी जानकारी हो, तो वे इसका सही इलाज करा सकते हैं।
इस प्रकार, यदि कोई व्यक्ति कोरोना वायरस से पीड़ित है, तो वह निम्नलिखित तरीके से इसका इलाज करा सकता है-

आराम करना-कोरोना वायरस का इलाज करने का सबसे आसान तरीका आराम करना है।
आराम करने से शरीर को ऊर्जा मिलती है, जिससे वह इस बीमारी से जल्दी ठीक हो जाता है।

अधिक मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करना-कोरोना वायरस होने पर डॉक्टर इससे पीड़ित लोगों को अधिक मात्रा में तरल पदार्थ का सेवन करने की सलाह देते हैं।तरल पदार्थ मानवशरीर में पानी की कमी को दूर करके शरीर में पानी की पर्याप्त मात्रा को बनाए रखने में सहायता करता है।

लार की जांच करना-कई बार, डॉक्टर कोरोना वायरस का इलाज करने के लिए लार की जांच करके भी करते हैं।इस प्रकार, कोरोना वायरस का इलाज मुंह की लार की जांच करके भी संभव है।

खांसी की दवाई पीना-जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि कोरोना वायरस का एक लक्षण खांसी होना भी है।
इसी कारण, कोरोना वायरस का इलाज खांसी की दवाई पीकर भी खाया जा सकता है।

दर्द निवारक दवाईयां लेना-कई बार, कोरोना वायरस (Coronavirus) का इलाज दर्द निवारक दवाइयों का सेवन करके भी किया जा सकता है।